शरद पूर्णिमा 2020: तिथि। समय। पूजा विधि। उपाय

शरद पूर्णिमा 2020: तिथि। समय। पूजा विधि। उपाय

शरद पूर्णिमा 2020

हिन्दू पंचांग के अनुसार आश्विन मास की पूर्णिमा को शरद पूर्णिमा के नाम से जाना जाता है। ज्योतिष के अनुसार, ऐसा माना जाता की इस दिन चाँद अपने 16 कलाओ से परिपूर्ण होता है।  इस दिन मध्य रात्रि में  खीर बना के रात भर चांदनी रात में  रखने का भी विधान है, क्युकि मान्यता है की इस दिन चन्द्रमा की किरणों से अमृत बरसता है और वैज्ञानिक भी इस बात को स्वीकार करते है, कि चन्द्रमा की औषधी गुणों से युक्त किरणें जब खीर पर पड़ती है , तो वो अमृत समान हो जाती है। जो भी उस खीर का सेवन  करता है उसके स्वाथ्य को लाभ पहुँचता है।

आइये जाने क्यों मनाई जाती है शरद पूर्णिंमा

पौराणिक कथा के अनुसार

एक साहूकार के दो पुत्रिया थी, दोनों ही पूर्णिंमा का व्रत करती थी। जहा बड़ी पुत्री विधिवत व्रत किया करती थी वही छोटी पुत्री ने व्रत को अपूर्ण ही छोड़ दिया, उसका नतीजा हुआ की छोटी पुत्री की जितनी भी संतान होती वो मृत पैदा होती। एक बार बड़ी पुत्री ने छोटी बहन की संतान को स्पर्श किया, उसके स्पर्श मात्र से उसका संतान जीवित हो उठा तब से शरद पूर्णिमा में व्रत करने की विधि चली आ रही है।

शरद पूर्णिमा 2020 मुहूर्त

तिथि आरभं – 5:45 PM 30 अक्टूबर

तिथि का अंत- 8:18 PM 31 अक्टूबर

शरद पूर्णिमा में खीर खाने के फायदा

इस दिन रात को खीर को खुले आसमान के निचे रखा जाता है, माना जाता है जो भी इस खीर का सेवन करता है उससे मन  को सकारात्मक प्रभाव मिलता है  ।  जो भी पित्त के प्रकोप को झेल रहा है उसे  खीर खाने से लाभ मिलता है। जिस व्यक्ति की आँखों की रोशनी कमजोर होती है या हृदय संबधित कोई परेशानी हो तो ऐसे व्यक्ति को खीर का सेवन जरूर करना चाहिए। 

शरद पूर्णिमा पूजा विधि

ब्रह्म मुहूर्त में स्नान करे। चौकी पर लाल कपडा बिछाये फिर माँ लक्ष्मी की मूर्ति स्थापित करे। देवी की मूर्ति को फूल तिलक नैवेद्य, इत्र अर्पित करे। देवी का आवाहन करे। इन मंत्रो का जाप करे ऊं श्रीं ह्रीं श्रीं कमले कमलालये प्रसीद प्रसीद श्रीं ह्रीं श्रीं महालक्ष्म्यै नमः। लक्ष्मी चालीसा का पाठ करे। देवी को खीर अर्पित करे, किसी ब्राम्हण को दान दे, फिर खीर को चांदनी रात में खुले आसमान के निचे रख दे और प्रातः इससे घर के लोगो को खाने को दे।

आइये जाने कुछ ऐसे उपाय जिससे बने देवी लक्ष्मी की कृपा आप पर

  • इस दिन लक्ष्मी जी की पूजा करने से कर्ज से मुक्ति मिलती है।
  • शरद पूर्णिमा की रात को सोना नहीं चाहिए, इस दिन देवी लक्ष्मी और विष्णु जी के नाम का जागरण करने से जीवन में  धन, सम्पदा की कभी कमी नहीं होगी।
  • इस दिन तुलसी की पूजा करने का भी विधान है , ऐसा माना जाता है तुलसी को प्रसन्न करने वाले से देवी लक्ष्मी तथा विष्णु जी स्वम् प्रसन्न हो जाते है। 
  • शरद पूर्णिमा में घर को स्वच्छ जरूर करे ,कहा जाता है की जो घर स्वच्छता से परिपूर्ण होता है, उस घर पर हमेशा देवी लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है।

जीवन में किसी भी प्रकार की समस्या के समाधान के लिए, भारत के प्रसिद्द ज्योतिषियों से संपर्क करे AstroSOLV Mobile App पर
AstroSOLV App डाउनलोड करे और अपना पहला परामर्श मुफ्त ले

 607 total views,  3 views today

Tags: , , , ,

No Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © 2017-20 TechBode Solutions Pvt. Ltd. All Rights Reserved